Thursday, 26 July 2018

कड़े कलयुग में / MOTIVATIONAL THOUGHT


कड़े कलयुग में कद्र को बरकरार रखना है तो कद्र करवाने वालों की जरूरत बने रहना होगा |


क्यूंकि आजकल दुनिया न शौंक  से और न दिल से ,


बल्कि जरूरत से जुड़ना पसंद करती है |

Previous Post
Next Post

0 comments: