तलाश में हूँ बीते लम्हें संजोने को जो तजुर्बे देकर चेहरे का नूर ले गये |
हारिये न हिम्मत तब तक , जब तक हड्डियों में जान बाकी है |
दर्द दिल में जितना गहरा हो , कंधे उतने मजबूत हो जाते हैं |
खूब कहा किसी ने , लालच , शंका और डर इन्सान की प्रगति में सबसे बड़े बाधक हैं |
क्या खूब कहा किसी ने - खेल है बाकि अभी , मैं अभी हारा नहीं |
आपके मन में कोई भी पोस्ट से संबंधित टिप्पणी हो तो आप उस पोस्टके नीचे कमेंट कर सकते हैं |

Monday, 2 July 2018

लाडला मोबाइल

लाडला मोबाइल है जब  से आ गया 
             तकनीकी रफ्तार की क्रांति ला गया |
तरक्की की आंधी चली कुछ इस कदर 
            एक टच में ही इन्सान जैसे सब कुछ पा गया |
लेकिन रिश्तों में नजदीकियां कुछ इस कदर हुई 
            पल पल के झगड़े का खबरी ये बना गया |
जहाँ न पहुंचे रवि वहां पहुंचे कवि ,
            होती थी कभी ये पुरानी कहावत |
आजकल तो जहाँ न पहुंचे मिसाईल वहां पहुंचे मोबाइल          
            कहावत सिद्ध करके दिखा गया |
लेकिन अवसाद की लत का कहर यह ,
             कुछ इस कदर विश्व में ढा गया |
भीड़ में हों चाहे किसी महफ़िल की छाँव में ,
             अकेलेपन को यह अनुभव करवा गया |
मिलने मिलाने में हिचकती है हर आँख अब ,
              हर कोई मोबाइल को हमदर्द बना गया |
सामाजिकता हो गयी अब बीती बातें ,
              खुद मस्ती में मस्त सभी को बना गया |
चार सदस्य हों परिवार के अगर ,
             सभी के होते है निजी मोबाइल |
किसी से बातचीत करना है अब व्यर्थ विवाद ,
               यही तो है सभी का लिविंग स्टाइल |
उपयोग उठाना था आधुनिकता का मतलब ,
               लेकिन अति अति सब करवा गया |
कुछ भी खो ये लाडला मोबाइल जब से आ  गया |
               तकनीकी रफ्तार की क्रांति ला गया |
तरक्की की आंधी चली कुछ इस कदर ,
               एक टच में ही इन्सान जैसे सब कुछ पा गया |
Written on 30.03.2018




शब्द रस आपको कैसा लगा नीचे अपने कमेंट एवं सुझाव पोस्ट कमेंट पर टच  करके लिख सकते हैं  जिससे मुझे आपके काव्य रचनाओं के बारे में बेहतरीन विचारों का पता लग सके  , धन्यवाद |



2 comments: